लहूलुहान है यह रूह आज जो ये जिस्म बेपर्दा है, किससे करे कबूल गुनाह अपना हम तो आईने से भी शर्मिंदा है

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.