Tere Ehsaas ki Garmi

जुन का महीना आग लगी सब और
और एक तुम हो की याद आ आकर इस आग को भडका रहे
खुद कयु नही आते रिमझिम की बुदों से
दिसंबर की ठंडक बनके
???

तेरे चाहने वालों मे इक नाम हमारा भी है
मुड के देख तेरे दीवानगी का आलम इधर भी है
मै तो कब से मर मिट्टी हु तेरे इशक मे
तुझे पाने की हसरत दिल मे अभी भी है
???

तेरे होने से है शामें सिनदुरी
तु है तो राते रौशन
तेरे होने के एहसास से मैं खिल जाती हु
तेरे आने से महक उठता है मेरे तन मन का गुलशन
???

तेरे एहसास की गर्मी से पिधलने लगी हु
मोम सी होके तेरी बाहों मे समाने लगी हु
तुम , तुम नहीं, मै , मै नहीं
हम बनकर दुनिया को नजर आने लगे है

GULABI HAI MAUSAM

मौसम हसीन है तेरा साथ है
फिर कयु ना बहके हम
जब हाथो मे तेरा हाथ है
???

गरमी मे भी तुम ठंडक हो
रुह तक ताजगी भर दे वो एहसास हो
जिसकी नजरों से पयार टपकता हो
वो मदहोश करने वाला जाम हो
और मै कया कहुँ ए सनम मेरे तो सब तुम हो
???

आज मौसम इतना गुलाबी कयु है
कया फिजाओं को भी तेरे आने की खबर हो गई

Barsat main romance

तुमहारे हथेलियों से बच बच के चलना बारिश मे
आज भी वो दिनों की याद ताजा है
अब तो ना वो बारिश रही ना वो रासते
इन आग लगाती बुदों का कया करु
जब तुम ही नही साथ मेरा छाता बनकर
???

ना वो बारिश ना वो पयार की बाते
ना वो रोमांटिक कसमे वादे
फिर भी ना जाने कयु खींच लेतीं है मूझे
ये पसीने से भीगे तेरे बदन की खुशबु
कुछ अलग सा ही नशा है इसमे जो उस बरसात की याद दिलाता है
???

भीगे भीगे से जब गुजरते हो मेरी गलियो से
मेरी सहेलियाँ सब आहे भरती है
वो कया जाने ये वहीं है जिसका दिल मेरे पास है
और मेरा दिल इसके सीने मे घडकता है
???
कल रात छत पर बारिश की बुदें
जैसे चेहरे पर सुईं सी चुभी हो
ये चुभन उन बुदों की नही थीं जानती हु
ये तो तेरे साथ ना होने की तडप थी जो बुदों सी चुभी मेरे तनमन पर
???

तुम साथ हो तो बारिश मे भीगने का मजा ही कुछ और है
सिमटी सिमटी सी छुईमुई सी रहतीं हो
नजरों से पिलाती हो जब तुम
कैसे ना बहके कोई इनका नशा ही कुछ और है

Romance

Kalrat chat par meri baah jopakdi
Mitha sa dard utha tan me
Bah par uski unglio ke nishan
Esa lga lal chuddia si pehna di usne apne nam ki
???

Usne hamari bato ko itna Dil par le liya
Ek humko chor kar baki 40 se dil lga Liya
???

Romance barish mai kro ya bus Mai
Kehlata to romance hi hai
Flirt ek se karo ya 4 se
Kehlata to flirt hi hai na
Good idea,?
To 4 kyu 40 kyu nhi

ला पिला दे साकिया

तुम क्या आए महफिल मे
चिरागों को रोशनी का साथ मिल गया
बिन पिए मदहोश हुऐ जाते है
तेरी बाहो मे गिरने का बहाना मिल गया
???
आज फिर तेरी आखौ से पीना है
इन मे डुब कर होश गवाने है
बस इतनी इलतिजा है मेरी जान
जब.बहकने लगु तो इन बाहो मे समभाल लेना
???
ला पिला दे साकिया इन नजरो के जाम
डूब जाना है मुझे इन मसत नयनों मे आज
देख ले कही होश मे आ ना जाऊ
मदहोश ही रखना मुझे सुबह और शाम

Teri diwangi

तेरी दीवानगी का असर तो देखो
जिस राह से तेरा गुजरना हुआ हमने वहीं आशिया बसा लिया
???

मायुस दिल फिर घडका है
गुम होती सासों ने रफ्तार पकडी है
सब तेरे नाम का ही असर है
जो दफन हुए अरमानों को हवा दी है
???

तेरी दीवानी हु सब जानते है
अब रहा नही जाता दुर तुझसे
तु भी जान ले कभी सीने से लगा के
???

तेरी दीवानगी का असर तो देखो
तेरा नाम सुनती हु तो नजरों कयु झुक जाती है

Ghayal dil

ना कर रहम की उम्मीद उससें ए दिल
खंजर भी मारेगा और लहु ना बहे ये कह के मोहबत का सबुत भी मांंगेगा
???

खुन की शकल मे दर्द टपकता है इस दिल से
तुझमे अहसास की कमी है ये तो पता था
मरहम का काम देगी इक नजर देख पयार से
???

अभी तो समभले भी ना थे हम
अभी तो इस टुटे दिल के टुकडे समेटे नही
इस मोहबत को दफन भी ना कर पाए हम तो
तुमने फिर इस रिसते दिल को कुरेद दिया खुबसूरत वेबफाई के तीर से
???

कयु घाव पे घाव देते हो
हमने तो मान ही लिया कि तेरे काबिल हम नही
???

ऐसी कया खता हुई कि हम अब एक नहीं
गलती हमसे हुई या किसी और की नजरों के तीर काम कर गए

Tum hi ho

मैने उस रब से खुशियां मागीं, मेरी झोली भर दी
मैने सकुन मांगा जिदंगी भर दी
अब उस खुदा से और कया मांगु
मेरी हर मुराद पुरी कर दी,
जब उसकी रहमत देखी तो वो तुम थे
हाँ तुम ही हो
???

मेरी हर दुआ मे जो मागीं है मेने वो मनत हो तुम
दुआ कबुल कर उस रब की बखशी नेयमत हो तुम
जिसकी खवाइश हर कोई करें वो जंनत हो तुम
मै कयू शुकरिया ना करु उस उपर वाले का
जिसकी रहमत से मेरे हो तुम
???

जिसके आने से अंघेरो मे चिराग जल जाए
जिसकी सासों से हवाएँ महक जाए
जो रोती आखौं मे आस जगा दे
वो हो तुम, हाँ तुमही हो वो
???
तुमसे ही सब खुशी मेरी
तुमसे ही चेहरे पर नुर है
तुम हो तो मै हु
तुम ही मेरी चाहत तुम ही गरूर हो
???

मेरी आशिकी मेरी मोहब्बत मेरी हसरत

बस अब तुम ही हो, हाँ तुम ही

Teri tasveer

एक बार जो देख लो मुस्कुरा के,
मौसम की रंगत बदल जाये,
ले लो जो अपनी बाहों में,
आईना भी शरमा जाए,
देख के सूरत आपकी उजाला सा फैला है
चेहरे का नूर देख अब तो सूरज भी पिघला है
❤️❤️
तेरी तसवीर सीने से लगा के वही सकुन है
जो तेरे साथ मे है मेरे हमदम
आ ईक बार गले लगा के तु भी देख
कया कोई फर्क तुझे महसुस होता है
???

आज तेरी तसवीर जला के आई हु
यु लगता है जैसे अपनी ही चिता जला आईं
सब खतम कर दिया तेरी बेवफाई ने
बस रिशतो के साथ दिल भी दफना के आई हु
???

तेरी तसवीर देख देख जी रही हु
ये तुम कब समझोगे
कभी युही सामने आ जायो
तो जीने का मकसद मिल जाए
???

छुप छुप के तेरी तसवीर देखती थी
वो भी छुपा ना पाई
चोरी पकडी ना जाए मेरी
तुझे दिल मे बंद किए बैठी हु
???

जीने का सहारा है ये तेरी तसवीर
जितना देखती हुँ सासें बड जाती है