Tere ishq mein

तेरे इशक की दीवानगी तो देखो, पहले खुद को रूह कहती थी, अब तेरे लिए उस रब से खुद को इंसान कहलवा आई

Tera saya mein banu

तेरे हर गम मे ,तेरी हर परेशानी मे, हर दूख मे तेरा सहारा हु मै, अब तुम ही कहो कैसे यकीन दिलाऊं के तेरे साथ हु मै

Sab tumhare liye

जुलफो की छावँ तेरे लिए, लबो की मुस्कान तेरे लिए, नजर के जाम तेरे लिए, अब और तो कुछ रहा नही अब तो सनम ये दिल जिगर सब तेरे लिए

Ab aur kya tarif kru

सदियो दुआ मे जिसे मांग वो मुराद हो तुम, जिसे देख मेरा सवेरा हुआ वो सुरज हो तुम, उस रब से सब मिला तुमहे पाने के बाद, मेरे तो आखौ की चमक और दिल का करार हो तुम

Tum hamare ho jao

सिर्फ तेरी रहु यही आरजु है इस रूह की, अपने दिल मे थोड़ी जगह देदे बस यही इलतिजा है तेरी इस मुरीद की

Kabhi juda na hona

तेरी मौहबत की गिरफत मे ही रहने दे, ये बेडियां भी कंगन सी महसूस होती है

Shyad yhi pyar hei

सुरत पर तेरी मरते है हम, पयार थोड़ा थोडा शायद करते है हम,बताना भी चाहते है पर हाल ए दिल दिखाने से डरते है हम

Haal-e-dil

कैसे बयां करु ए हाल ए दिल तुझको, तुम दिल मे बस कर नही जान पाए तो अलफाज कया समझोगे