जिंदगी में मोहब्बत तो सब किया करते है, इस रूह की मोहब्बत तुझे मिट के भी महसूस होगी, एक एक सांस मेरी नाम तेरे लिखी है मैंने, फना होके भी सकूँ दे यह वादा निभाएगी मिट्टी मेरी

Izhare mohabbat

कल रात वो क्या कह गए हमसे पाँव ज़मीं पर नही ,वो उनकी मोहब्बत थी या असर महखाने का, किया तो इज़हारे मोहब्बत था पर जैसे झोली में डाल गए चाँद फलक का