यह रुह भी तेरी

जिस्म बनते है बिगड़ते है खुदा ने भी यही समझाया है,
चाह करनी है तो इस रूह की कर,
जिसे कभी कोई जुदा ना कर पाया है

One thought on “यह रुह भी तेरी”

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

WordPress spam blocked by CleanTalk.