नाम उनका इन लबो पर आने न देंगे, वो पहली औऱ आखिरी मोहब्बत है बदनाम उनको होने न देंगे, जब तक न आये यक़ीन वफ़ा पर हमारी उन्हें, इन सांसो को थाम के रखेंगें उनके दीदार से पहले इन्हें छुटने न देंगे

Humne toh mohabbat ki thi saza kab ho gyi, chaha toh sirf ek hi ko humne, duniya kaise dushman ho gyi

कलम उठाती हु पर कुछ लिख नही पाती, तेरी यादों में तडपती हु पर मिल नही पाती, जब भी आते है याद वो लम्हे जो तेरे साथ जिये थे मैंने, मुस्कराना चाहती हु पर इन अश्को को रोक नही पाती

Toot Gaye hai

बहुत गम थे इस ज़िंदगी में, एक आपने क्यों दे दिया, जी ही लेते थे आपकी मोहब्बत के सहारे, यह सहारा क्यों हमसे छीन लिया, अब कैसे रहे तन्हा आप ही कह दीजिये, दिन गुजरते थे देख के आपको,आपने क्यों पर्दे के पीछे चेहरा छुपा लिया

कोई अपना ना हुआ

इस भरी दुनिया में कोई अपना ना हुआ, जिसे कहते हमसफर ऐसा कोई साथी ना हुआ, मिलते तो बहुत है रोज इन राहो मे, जो मंज़िल तक ले जाये ऐसा सहारा ना मिला

जिंदगी में मोहब्बत तो सब किया करते है, इस रूह की मोहब्बत तुझे मिट के भी महसूस होगी, एक एक सांस मेरी नाम तेरे लिखी है मैंने, फना होके भी सकूँ दे यह वादा निभाएगी मिट्टी मेरी

Izhare mohabbat

कल रात वो क्या कह गए हमसे पाँव ज़मीं पर नही ,वो उनकी मोहब्बत थी या असर महखाने का, किया तो इज़हारे मोहब्बत था पर जैसे झोली में डाल गए चाँद फलक का

Badle badle se haalat hai, badle se ab Woh bhi, kal tak sans thei sine mei jinki aaj unke hum Kuch bhi nahi

तुम मेरी चाहत मेरी हसरत हो तुम, तुम्ही रास्ते और मेरी मंज़िल भी तुम, तुमको चाहा बस तुम्ही को पाना है, इन सांसो की रफ्तार और दिल की धड़कन हो तुम

बदलो चाहे लाख चेहरे हमसे कैसे छुपोगे, हवाओं में है ख़ुशबू इस rooh की,साँसों में घुल सीने में उतरने से इसे कैसे रोक पाओगें